.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Wednesday, March 30, 2016

दिलो की आग न छेड़ो ये दरिया तूफानी है ,



नदी की राह न रोको ये सिंधु की दीवानी है ,
             दिलो  की आग न छेड़ो ये दरिया तूफानी है ,
                           कभी खुद की कभी जग हस्ती ये मिटा डाले
                                              पाकीजा इश्क की जग में ये अंतिम निशानी है । 
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...